•   Wednesday Nov 25
In Scoop

hafiz-saeed-
In National News

26/11 के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को अदालत ने दी 10 साल कैद की सजा

मुंबई के 26/11 हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद को पाकिस्तान की एंटी टेरर कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई है। कोर्ट ने टेरर फंडिंग के दो मामलों में यह सजा सुनाई है। सईद के साथ जफर इकबाल, याहया मुजाहिद और अब्दुल रहमान मक्की को भी साढ़े 10 साल की जेल की सजा सुनाई गई है। हाफिज सईद को जुलाई 2019 में गिरफ्तार किया गया था और उसके खिलाफ अब तक 4 मामलों में आरोप तय हुए हैं। कोर्ट ने सईद की संपत्ति ज़ब्त करने का निर्देश दिया है और 1.1 लाख का जुर्माना भी लगाया है। काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट में जमात-उद-दावा के खिलाफ केस दर्ज किए गए हैं जिनमें से 24 में फैसला आ चुका है जबकि बाकी अभी अदालत में लंबित है।

2000-rupees-will-be-fined-for-not-wearing-mask-in-delhi
In National News

दिल्ली में मास्क न पहनने पर अब लगेगा 2000 रुपए का जुर्माना

दिल्ली में करुणा की बेतहाशा बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार अब सख्त हो गई है। शादी में मिली छूट को वापस लेने के बाद आप सरकार ने नया प्रावधान लागू किया है। दिल्ली में अब मास्क न पहनने वालों को 2000 रुपए तक का चालान भरना पड़ेगा। पहले मास्क न पहनने पर यह चालान 500 रुपए का था लेकिन अब इसे बढ़ाकर 2000 रुपए कर दिया गया है।  सीएम अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को कहा कि अब दिल्ली में अगर कोई भी व्यक्ति सार्वजनिक स्थान पर मास्क नहीं पहनेगा तो उस पर 2000 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। इस दौरान केजरीवाल ने विपक्ष पर कोरोना के दौरान राजनीति करने के भी आरोप लगाया। साथ ही उन्होंने दिल्लीवासियों से घर पर रहकर ही छठ पूजा मनाने का आग्रह भी किया।

31-oct-1984-indira-gandhi-was-shot-dead-by-her-guards
In Politics

31 अक्टूबर 1984 : चंद पलों में बदली थी देश की तकदीर

30 अक्टूबर 1984, हत्या के एक दिन पहले इंदिरा गांधी ओडिशा के दौरे पर थीं। वहां उन्होंने तत्कालीन ओडिशा सचिवालय के सामने परेड ग्राउंड में अपना आखिरी भाषण दिया था। उस भाषण में  उन्होंने कुछ ऐसा कहा था जिसे आज भी लोग उनकी आसन्न मृत्यु का पूर्वानुमान मानते हैं। उन्होंने कहा था : "मैं आज जीवित हूं, शायद में कल न रहूं। मैं तब तक देश की सेवा करती रहूंगी जब तक मेरी अंतिम सांस है और जब मैं मर जाउंगी, तो मैं कह सकती हूं कि मेरे खून की हर बूंद भारत को सबल बनाएगी और इसे मजबूत करेगी। यहां तक ​​कि अगर मैं राष्ट्र की सेवा में मर गई, तो मुझे इस पर गर्व होगा। मेरा खून, इस राष्ट्र की वृद्धि और इसे मजबूत और गतिशील बनाने में योगदान देगा।" शायद उस समय कोई नहीं जनता था ये इंदिरा गाँधी का आखिरी भाषण होगा या शायद इंदिरा को भी इसका पूर्णभास हो गया था। ये कहा नहीं जा सकता।  31 अक्टूबर 1984, की सुबह भी इंदिरा के लिए अन्य दिनों की तरह थी। वह रोज़ की तरह इस दिन भी जल्दी उठीं। आज का दिन उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण था। आज उनका एक विदेशी टीवी चैनल के साथ इंटरव्यू था इसलिए वह आज खासतौर से तैयार हो रहीं थी। पर वो जानती नहीं थी आज का ये दिन उनकी ज़िन्दगी का आखिरी दिन होगा। उस सुबह एक और आदमी था जो खास तौर से तैयार हो रहा था। पर वह जनता था शायद यह दिन उसकी ज़िंदगी का आखिरी दिन होगा। उसका नाम था बेअंत सिंह। वह इंदिरा के अंगरक्षकों में से एक था। 1 सफदरजंग रोड के अंदर इंदिरा जल्दी में थी और बाहर उनके कातिल भी उनके इंतज़ार में बैठे थे। इंदिरा के दूसरे कातिल सतवंत सिंह ने उस रोज़ बीमारी का बहाना बना कर अपनी ड्यूटी बेअंत सिंह के साथ करवा ली थी। इंदिरा के दोनों कातिल अब एक साथ एक ही जगह घात लगाए बैठे थे।  समय : 9 बजकर 15 मिनट, इंदिरा अपने इंटरव्यू के स्थान के लिए निकल पड़ी या यूँ कहें की उनके आखिरी रास्ते पर। तेज़ क़दमों से इंदिरा उस गेट के पास पहुँच गई जो 1 सफदरजंग और 1 अकबर मार्ग को जोड़ता है। ठीक इसी जगह उनके दोनों कातिल भी खड़े थे। बेअंत सिंह के हाथ में रिवाल्वर थी तो सतवंत सिंह के हाथ में एक मशीन गन। जब इंदिरा गेट के करीब पहुंची, उन्होंने बेअंत को देखा और बेअंत ने उन्हें नमस्ते कहा। इसके बाद बेअंत ने अचानक अपनी सरकारी रिवाल्वर निकली और इंदिरा पर गोली दाग दी। उस समय इंदिरा केवल इतना ही कह पाईं "ये क्या कर रहे हो?", लेकिन तब तक बेअंत ने कई और गोलियां इंदिरा पर चला दी। बेअंत को देख सतवंत सिंह ने भी मशीन गन से इंदिरा पर गोलियां दागना शुरू कर दिया। इस घटना के तत्काल बाद, उपलब्ध सूचना के अनुसार, बेअंत सिंह ने उनपर तीन बार गोली चलाई और सतवंत सिंह ने उन पर 22 गोली दागी। इसके बाद उन्होंने अपने हथियार गिरा दिए और आत्मसमर्पण कर दिया। बाद में उन्हें अन्य गार्डों द्वारा एक बंद कमरे में ले जाया गया, जहां बेअंत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई।  आस पास मौजूद लोगों ने शोरगुल मचाया जल्द एम्बुलेंस को बुलाने में लग गए, लेकिन उस समय तक काफी देर हो गई थी। इंदिरा लहूलुहान होकर ज़मीन पर गिर गईं। समय था 9 बजकर 17 मिनट। इन चंद पलों में देश की तक़दीर बदल गई। इंदिरा को उनके सरकारी कार में अस्पताल ले जाया गया पर वहां पहुंचाते पहुँचाते उन्होंने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। उन्हें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में लाया गया, जहाँ डॉक्टरों ने उनका ऑपरेशन किया। उस वक्त के सरकारी हिसाब 29 प्रवेश और निकास घावों को दर्शाती है, तथा कुछ बयाने 31 बुलेटों के उनके शरीर से निकाला जाना बताती है। जानकारी के मुताबिक 23 गोलियां उनके शरीर से होकर गुज़री थीं जबकि 7 गोलियां उनके शरीर के अंदर ही थीं। उनका अंतिम संस्कार 3 नवंबर को राज घाट के समीप हुआ और यह जगह शक्ति स्थल के रूप में जानी गई। उनके अंतिम संस्कार को  घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय स्टेशनों पर लाइव प्रसारित किया गया। उनके मौत के बाद, दिल्ली में बड़े पैमाने पर सिख विरोधी दंगे हुए और साथ भारत के कई अन्य शहरों, जिनमे कानपुर, आसनसोल और इंदौर  में सांप्रदायिक अशांति घिर गई और हजारों सिखों के मौत दर्ज किए गए। एक लाइव टीवी शो में राजीव गांधी ने इस नरसंहार के बारे में कहा था, "जब एक बड़ा पेड़ गिरता है, तो पृथ्वी हिलती है।"

story-of-bhalei-mata-mandir-of-himachal
In First Blessing

देवी मां का एक ऐसा हैरतंगेज मंदिर, जहां मां की मूर्ति को पसीना आए तो होती है हर मनोकामना पूरी

हिमाचल प्रदेश की भूमि के कण कण में देवी देवताओं का वास माना जाता हैं। यह एक ऐसा प्रदेश है जहां धार्मिकता व अचंभित करने वाले रहस्य की कई कथाएं जुड़ी हुई है। चंबा जिले में स्थित प्रसिद्ध देवीपीठ भलेई माता के मंदिर से ऐसे रहस्य व कथाए जुड़ी है जो सभी को अचंभित कर देती है।    मान्यता है कि इस मंदिर में देवी माता की जो मूर्ति है, उस मूर्ति को पसीना आता है। यहां आने वाले लोग यह भी मानते हैं कि जिस समय देवी की मूर्ति से पसीना आता है, उस वक्त जो भी श्रद्धालु वहां मौजूद होता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। स्थानीय लोगों की मानें तो 500 साल पुराने इस मंदिर का इतिहास अलग है। भलेई माता के मंदिर में वैसे तो हर दिन हजारों की तादाद में श्रद्धालु आते हैं, लेकिन नवरात्रों में यहां विशेष धूम रहती है।  यह मंदिर अपनी एक अजीब मान्यता को लेकर अधिक जाना जाता है, जिस पर यहां आने वाले श्रद्धालु विशेष यकीन रखते हैं। माना जाता है कि इस मंदिर में 300 साल तक महिलाओं को जाने की इजाजत नहीं थी। कुछ सालों के बाद मंदिर से माता की मूर्ति चोरी हो गई थी। बाद में ये मूर्ति चमेरा डैम के आसपास मिली। कहा जाता है कि जिन चोरों ने मूर्ति को चुराया था, उनकी आंखों की रौशनी भी चली गई थी। इसके बाद चोर मूर्ति छोड़ वहां से भाग गए थे।  भलेई मंदिर है के बारे में यहां के पुजारी कहते है कि देवी माता इसी गांव में प्रकट हुई थीं। उसके बाद ही इस मंदिर का निर्माण कराया गया था। तब से लेकर आज तक यहां हजारों श्रद्धालुओं का तांता इस इंतजार में लगा रहता है कि जाने कब देवी को पसीना आए और उनकी मनोकामना पूर्ण हो जाए।

4-terrorist-killed-in-nagrota-jammu-and-srinagar-search-operation-underway
In Breaking

जम्मू-कश्मीर : नगरोटा में एनकाउंटर, जैश के 4 आतंकी ढेर

जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ सुरक्षाबलों का मोर्चा जारी है। नगरोटा में सुरक्षा बलों ने बान टोल प्लाजा के पास चेकिंग के दौरान 4 आतंकवादियों को ढेर किया है। जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों को खुफिया जानकारी मिली जिसके बाद नगरोटा में सुरक्षा कड़ी की गई और हर नाके पर आने जाने वाले वाहनों की जांच शुरू की गई। इसी कड़ी में सुरक्षा बलों द्वारा बान टोल प्लाजा पर भी नाकाबंदी की थी। वाहनों की चेकिंग के दौरान आतंकवादियों के एक समूह ने सुरक्षा बलों पर सुबह 5 बजे फायरिंग शुरू कर दी। फायरिंग के बाद आतंकी जंगल की तरफ भागने लगे, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। जानकारी के मुताबिक इस एनकाउंटर में 4 आतंकवादी मारे गए हैं। वहीँ इस एनकाउंटर के चलते जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर दिया गया है।  अधिकारीयों के मुताबिक ये आतंकी जैश-ए-मुहम्मदआतंकी संघठन से जुड़े हुए हैं। मारे गए आतंकियों में से 3 के शव बरामद कर लिए गए हैं जबकि एक की तलाश जारी है। वहीँ इस एनॉउंटर में पुलिस जवानो को मामूली चोटें आईं हैं। मन जा रहा है यह आतंकी के जरिये जम्मू-श्रीनगर हाईवे के रास्ते कश्मीर जाने की कोशिश कर रहे थे। इसी दौरान सुरक्षाबलों ने इन्हे घेर लिया और एनकाउंटर शुरू हो गया। इस घटना के चलते जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ लगे नगरोटा में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है, वाहनों की आवाजाही पर नजर रखी जा रही है। 

road-accident-gujarat-Vadodara-11-people-reported-dead
In National News

गुजरात के वडोदरा में भीषण सड़क हादसा, 11 लोगों की मौत

गुजरात के वडोदरा में एक दुखद हादसा पेश आया है। वडोदरा के पास आज सुबह तीन बजे मिनी ट्रक और ट्राले की टक्कर में पांच महिलाओं समेत 11 की मौत हो गई व 16 लोग घायल हुए हैं। इन में से कुछ लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। बताया जा रहा है ये लोग सूरत से पावागढ़ दर्शन के लिए जा रहे थे।  हादसा नेशनल हाईवे पर वाघोडिया के पास का बताया जा रहा है। दुर्घटना के दौरान ट्रक में सवार सभी लोग सो रहे थे। चीख पुकार सुनकर आस पास के लोग मदद के लिए पहुंचे और उन्होंने पुलिस को सूचना दी। घायलों को वडोदरा के एसएसजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं इस हादसे में 9 लोगों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। मृतकों में तीन माँ और उनके इकलौते बेटे शामिल हैं। साथ एक परिवार के पांच लोगों ने दम तोड़ दिया। इनमे पति पत्नी, उनका बेटा, बेटी और चचेरे भाई शामिल है। ये लोग सूरत से पावागढ़ दर्शन के लिए जा रहे थे।  प्रधानमंत्री ने जताया दुःख प्रधानमंत्री ने इस हादसे को लेकर दुःख जताया है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा "वडोदरा में हुए हादसे से दुखी हूं। मेरी संवेदनाएं उन लोगों के साथ हैं जिन्होंने अपने प्रियजनों को खोया। प्रार्थना है कि घायल जल्द ठीक हो जाए। प्रशासन दुर्घटना स्थल पर हर संभव सहायता उपलब्ध करा रहा है।" सीएम ने दिए मदद के निर्देश गुजरात के मुख्यमंत्री ने भी इस हादसे को लेकर गहरा शोक प्रकट किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए बताया की अधिकारीयों को जरुरतमंदो की मदद के निर्देश दे दिए गए हैं। उन्होंने ट्वीट में लिखा "वडोदरा के पास सड़क दुर्घटना के कारण हुए नुकसान से दुखी हूं। अधिकारियों को जरूरतमंदों की मदद के निर्देश दिए हैं। जो लोग घायल हुए हैं, वे जल्द से जल्द ठीक हो जाएं। मैं दिवंगत आत्माओं के लिए प्रार्थना करता हूं।"

yulla-kanda-jheel-in-kinnaur
In First Blessing

यहां पूरी होती है जीवनसाथी को पाने की कामना

हिमाचल प्रदेश को यू ही नहीं देवभूमि कहा जाता है। प्रकृति के बेहतरीन दृश्य के साथ रोचक रीति रिवाज और धामिर्क स्थल मानो देवभूमि शब्द को सालों से जीवंत रखती आ रही है। ऐसे ही जिला किन्नौर का युला कांडा झील आस्था और प्राकृतिक सौन्दर्य का अद्भुत संगम है। इस झील के बीचों बीच भगवान श्रीकृष्‍ण का मंदिर है। समुद्र तल से लगभग 12000 फीट की ऊंचाई पर होने के कारण इसे दुनिया के सबसे ऊंचे कृष्ण मंदिर में से एक माना जाता है। पौराणिक कथा व जनश्रुतियों के अनुसार कहा जाता है कि इसका निर्माण पांडवों ने वनवास के समय किया था। उसके बाद झील के बीच कृष्ण मंदिर का निर्माण किया गया। यहां हर साल जन्माष्टमी पर उत्सव मनाया जाता है, जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। मान्यता है कि तत्कालीन बुशहर रियासत के राजा केहरी सिंह के समय इस उत्सव को मनाने की परंपरा शुरू हुई थी। सदियों पुरानी परंपरा आज भी चली आ रही है। पहले छोटे स्तर पर मनाए जाने वाले इस उत्सव को अब जिला स्तरीय दर्जा मिल चुका है। यह मंदिर न केवल खूबसूरती का अनूठा प्रमाण है बल्कि बरसो से रिश्तों की खूबसूरती को भी सींचता आ रहा है। जन्माष्टमी के दिन यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। इस दिन यहां श्रद्धालु किन्‍नौरी टोपी उल्टी करके झील में डालते हैं। मान्यता है कि अगर आपकी टोपी बिना डूबे तैरती हुई दूसरे छोर तक पहुंच जाती है तो आपकी मनोकामना जरूर पूरी होती है। फिर वो चाहे धर्म का रिश्ता हो, या जीवन साथी को पाने की कामना।  इसके अलावा यहां आने वाले श्रद्धालु पवित्र झील की परिक्रमा भी जरूर करते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से उन्हें पापों से मुक्ति मिल जाती है।

Featured Videos

Video

Latest

31 अक्टूबर 1984 : चंद पलों में बदली थी देश की तकदीर

In Politics
31-oct-1984-indira-gandhi-was-shot-dead-by-her-guards

30 अक्टूबर 1984, हत्या के एक दिन पहले इंदिरा गांधी ओडिशा के दौरे पर थीं। वहां उन्होंने तत्कालीन ओडिशा सचिवालय के सामने परेड ग्राउंड में अपना आखिरी भाषण दिया था। उस भाषण में  उन्होंने कुछ ऐसा कहा था जिसे आज भी लोग उनकी आसन्न मृत्यु का पूर्वानुमान मानते हैं। उन्होंने कहा था : "मैं आज जीवित हूं, शायद में कल न रहूं। मैं तब तक देश की सेवा करती रहूंगी जब तक मेरी अंतिम सांस है और जब मैं मर जाउंगी, तो मैं कह सकती हूं कि मेरे खून की हर बूंद भारत को सबल बनाएगी और इसे मजबूत करेगी। यहां तक ​​कि अगर मैं राष्ट्र की सेवा में मर गई, तो मुझे इस पर गर्व होगा। मेरा खून, इस राष्ट्र की वृद्धि और इसे मजबूत और गतिशील बनाने में योगदान देगा।" शायद उस समय कोई नहीं जनता था ये इंदिरा गाँधी का आखिरी भाषण होगा या शायद इंदिरा को भी इसका पूर्णभास हो गया था। ये कहा नहीं जा सकता।  31 अक्टूबर 1984, की सुबह भी इंदिरा के लिए अन्य दिनों की तरह थी। वह रोज़ की तरह इस दिन भी जल्दी उठीं। आज का दिन उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण था। आज उनका एक विदेशी टीवी चैनल के साथ इंटरव्यू था इसलिए वह आज खासतौर से तैयार हो रहीं थी। पर वो जानती नहीं थी आज का ये दिन उनकी ज़िन्दगी का आखिरी दिन होगा। उस सुबह एक और आदमी था जो खास तौर से तैयार हो रहा था। पर वह जनता था शायद यह दिन उसकी ज़िंदगी का आखिरी दिन होगा। उसका नाम था बेअंत सिंह। वह इंदिरा के अंगरक्षकों में से एक था। 1 सफदरजंग रोड के अंदर इंदिरा जल्दी में थी और बाहर उनके कातिल भी उनके इंतज़ार में बैठे थे। इंदिरा के दूसरे कातिल सतवंत सिंह ने उस रोज़ बीमारी का बहाना बना कर अपनी ड्यूटी बेअंत सिंह के साथ करवा ली थी। इंदिरा के दोनों कातिल अब एक साथ एक ही जगह घात लगाए बैठे थे।  समय : 9 बजकर 15 मिनट, इंदिरा अपने इंटरव्यू के स्थान के लिए निकल पड़ी या यूँ कहें की उनके आखिरी रास्ते पर। तेज़ क़दमों से इंदिरा उस गेट के पास पहुँच गई जो 1 सफदरजंग और 1 अकबर मार्ग को जोड़ता है। ठीक इसी जगह उनके दोनों कातिल भी खड़े थे। बेअंत सिंह के हाथ में रिवाल्वर थी तो सतवंत सिंह के हाथ में एक मशीन गन। जब इंदिरा गेट के करीब पहुंची, उन्होंने बेअंत को देखा और बेअंत ने उन्हें नमस्ते कहा। इसके बाद बेअंत ने अचानक अपनी सरकारी रिवाल्वर निकली और इंदिरा पर गोली दाग दी। उस समय इंदिरा केवल इतना ही कह पाईं "ये क्या कर रहे हो?", लेकिन तब तक बेअंत ने कई और गोलियां इंदिरा पर चला दी। बेअंत को देख सतवंत सिंह ने भी मशीन गन से इंदिरा पर गोलियां दागना शुरू कर दिया। इस घटना के तत्काल बाद, उपलब्ध सूचना के अनुसार, बेअंत सिंह ने उनपर तीन बार गोली चलाई और सतवंत सिंह ने उन पर 22 गोली दागी। इसके बाद उन्होंने अपने हथियार गिरा दिए और आत्मसमर्पण कर दिया। बाद में उन्हें अन्य गार्डों द्वारा एक बंद कमरे में ले जाया गया, जहां बेअंत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई।  आस पास मौजूद लोगों ने शोरगुल मचाया जल्द एम्बुलेंस को बुलाने में लग गए, लेकिन उस समय तक काफी देर हो गई थी। इंदिरा लहूलुहान होकर ज़मीन पर गिर गईं। समय था 9 बजकर 17 मिनट। इन चंद पलों में देश की तक़दीर बदल गई। इंदिरा को उनके सरकारी कार में अस्पताल ले जाया गया पर वहां पहुंचाते पहुँचाते उन्होंने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। उन्हें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में लाया गया, जहाँ डॉक्टरों ने उनका ऑपरेशन किया। उस वक्त के सरकारी हिसाब 29 प्रवेश और निकास घावों को दर्शाती है, तथा कुछ बयाने 31 बुलेटों के उनके शरीर से निकाला जाना बताती है। जानकारी के मुताबिक 23 गोलियां उनके शरीर से होकर गुज़री थीं जबकि 7 गोलियां उनके शरीर के अंदर ही थीं। उनका अंतिम संस्कार 3 नवंबर को राज घाट के समीप हुआ और यह जगह शक्ति स्थल के रूप में जानी गई। उनके अंतिम संस्कार को  घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय स्टेशनों पर लाइव प्रसारित किया गया। उनके मौत के बाद, दिल्ली में बड़े पैमाने पर सिख विरोधी दंगे हुए और साथ भारत के कई अन्य शहरों, जिनमे कानपुर, आसनसोल और इंदौर  में सांप्रदायिक अशांति घिर गई और हजारों सिखों के मौत दर्ज किए गए। एक लाइव टीवी शो में राजीव गांधी ने इस नरसंहार के बारे में कहा था, "जब एक बड़ा पेड़ गिरता है, तो पृथ्वी हिलती है।"

प्रदेश में दौड़ेंगी परिवहन निगम की 14 अतिरिक्त बसें

In Travel
14-additional-buses-of-hrtc-to-run-to-delhi

त्योहारी सीजन के चलते हिमाचल सरकार ने पथ परिवहन निगम की 14 अतिरिक्त बसें चलाने का फैसला लिया है। ये बसें 11 से 13 नवंबर तक चलेंगी। प्रदेश में शिमला, धर्मशाला, बिलासपुर, हमीरपुर, चंबा, मंडी समेत अन्य मुख्य डिपुओं से दिल्ली के लिए बसें भेजने के निर्देश जारी किए गए हैं।  दिवाली आने वाली है, ऐसे में बहरी प्रदेशों से वपस आने वाले लोग व प्रवासी लोग अपने घरों का रुख करते हैं, ताकि वह अपने घरों में दिवाली मना सके। इसके चलते प्रदेश सरकार ने अतिरिक्त 14 बसें चलने का निर्णय लिया है। जानकरी के अनुसार परिवहन निगम जहां 40 व इससे अधिक सवारियां होंगी, वहां स्पेशल बसें भेजेगा। सवारियां फोन पर भी अतिरिक्त बसों के लिए आवेदन कर सकेंगी। दिवाली वाले दिन निगम साधारण बसें चलाएगा। ये दिल्ली, चंडीगढ़, शिमला, मनाली, धर्मशाला, हमीरपुर, बैजनाथ और बद्दी से अलग-अलग रूटों पर चलेंगी।

ब्यूटी : बालों को हैल्थी रखने के लिए अपनाएं ये स्टेप्स

In Health
hair-care-solutions-for-hair-problems

आजकल कोई झड़ते बालों से परेशान है, तो किसी के बाल ही नहीं बढ़ते। वहीं कुछ लोग असमय सफेद होते बालों से परेशान हैं। कोई बालों की डॉयनेस से तंग है टी कोई डैंड्रफ से। बालों को लेकर हर किसी की अपनी-अपनी परेशानी है। लेकिन इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता बस कुछ सिंपल स्टेप्स फॉलो कर के।  सही प्रॉडक्ट का इस्तेमाल करे : बालो मे कोई प्रॉडक्ट इस्तेमाल करने से पहले उसका क्वालिटी का जाँच कर ले और सिर्फ़ अच्छे प्रॉडक्ट ही इस्तेमाल करने से नही चलेगा सही देखभाल भी ज़रूरी हैं। कई बार ग़लत प्रॉडक्ट इस्तेमाल करने से बाल खराब, रूखे, और सफेद हो जाते हैं। इसलिए बालो पे केमिकल प्रॉडक्ट इस्तेमाल करने से अच्छा नॅचुरल प्रॉडक्ट ही इस्तेमाल करे। सही आहार : अच्छे प्रॉडक्ट के साथ-साथ अच्छे आहार पे भी ध्यान देना होगा। उपयुक्त आहार सेवन करने से बालो को सभी पोशाक तत्व मिल जाते हैं। आहार मे आप गाजर, मछली का समावेश कर सकते हैं। खाने मे सभी चीज़ो का होना ज़रूरी हैं, विटामिन, प्रोटीन, ग्रावि वाली सब्जी। बालो मे तेल मसाज करे : बालो पे तेल का मसाज करना बहुत ही उपयोक्त हैं। अब सबसे बड़ी कन्फुजन रहता है की कॉन्सा तेल का इस्तेमाल करे क्यूंकी मार्केट मे बहुत सारे तेल मिलते हैं। तो मैं आपको बताता हूँ आप नॅचुरल तेल का इस्तेमाल करे, आप नारियल का तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं ये बहुत ही फ़ायदेमंद हैं। इससे आपके बाल मे रूखापन ख़तम हो जाएगा, और बाल रेशमी दिखने लगेंगे। टेंसन मे न रहे : बाल लंबा ना होने का एक मुख्य कारण टेंसन भी है, अगर आपको हाइपर टेंसन रहता है तो आपके बाल ज़्यादा झड़ते है, जिससे आपका बाल पतला ओर छोटा हो जाते है। कंघी ध्यान पूर्वक करे : बहुत बारीक कंघी का इस्तेमाल ना करे, क्यों की उसके इस्तेमाल से आपके बाल फँस जाते है और ज़्यादा झड़ते है। इसलिए खुले हुए यानी ब्रश जैसे कंघी का प्रयोग करे उससे आपके बाल कंघी मे कम फसेंगे ओर उन्हे हालता सा मसाज भी मिल जाता है। अच्छे कंडीशनर इस्तेमाल करे : हर बार शॅमपू करने के बाद अपने बाल अच्छे कंडीशनर से धोए। ताकि आपके बालो की मजबूती और चमक बनी रहे। नॅचुरल शॅमपू का इस्तेमाल : आपको हुमेशा शॅमपू खरीदने से पहले ये देख लेना चाहिए की उसमे केमिकल ना हों, यानी सस्ते शॅमपू को ना ले, बल्कि महेंगे ओर अच्छे ब्रांड का ही ले। अपने बालों को बाहरी नुकसान से बचाए : धूप में, पूल में, या सुबह के यातायत के समय, यदि आप बालों की सुरक्षा नहीं कर रहें है तो इससे बालों को नुकसान पहुंच सकता है। अपने बालों को सुरक्षित रखने के लिए उसी तरह से जागरूक रहें- जिस तरह की आप अपनी त्वचा के लिए रहते हैं- ऐसा करने से बाल लंबे समय तक घने बने रहेंगे। यदि आप ज्यादा देर तक धूप के संपर्क में रहने वाले हैं, तो हैट पहने, इस तरह से आपके बाल रूखे नहीं होंगे और झड़ेंगे भी नहीं। पूल में स्विम कैप पहने जिससे की क्लोरीन से आपके बालों को नुकसान न पहुंचे। प्रदूषण वाली जगह पर ज्यादा देर तक न रहें। यदि आपको ट्रैफिक में चलना पड रहा है, तो हैट या स्कार्फ पहने।  

पंड्या ने तोड़ा विराट-युवराज का ये रिकॉर्ड

In Sports
hardik-pandya-breaks-yuvraj-singh-and-virat-kohli-record

मुंबई इंडियंस के स्टार प्लेयर ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने रविवार को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ एक शानदार पारी दी। पंड्या ने अपनी इस पारी में सात छक्के और दो चौके भी लगाए। इसी के साथ पंड्या ने एक न्य रिकॉर्ड भी कायम किया है। पंड्या ने रविवार को जो 7 छक्के लगाए उस में से चार एक ही ओवर में आए। पंड्या ने राजस्थान की ओर से 18वां ओवर करने आए अंकित राजपूत के ओवर में चार छक्के लगाए।  IPL में ये दूसरी बार है जब पंड्या ने एक ही ओवर में 4 छक्के लगाए। उनके अलावा सिक्सर किंग युवराज सिंह, भारतीय कप्तान विराट कोहली, श्रेयस अय्यर, इशान किशन और राहुल तेवतिया को पीछे छोड़ा जो एक बार यह कारनामा कर चुके है।    पंड्या ने 21 गेंदों पर 7 छक्‍के और 2 चौके की मदद से नाबाद 60 रन जोड़े. पंड्या शुरुआत की 9 गेंदों पर सिर्फ 8 रन ही बना पाए थे, मगर अगली 12 गेंदों पर उन्‍होंने 52 रन जड़ दिए। 

बॉलीवुड को एक और झटका, इस फेमस अभिनेता ने किया सुसाइड, हॉलीवुड मूवी में भी कर चुके हैं काम

In Entertainment
बॉलीवुड को एक और झटका, इस फेमस अभिनेता ने किया सुसाइड, हॉलीवुड मूवी में भी कर चुके हैं काम

बॉलीवुड अभिनेता आसिफ बसरा ने सुसाइड कर लिया है। अभिनेता को धर्मशाला के मैक्लोडगंज में जोनगिबाड़ा रोड पर स्थित एक कैफ़े के पास मृत पाया गया। हालांकि की अभी सुसाइड के कारणों का पता नहीं चल पाया है। पुलिस मौके पर पहुंच गई है और शव कब्जे में लेकर मामले की जांच कर रही है। जानकारी के अनुसार अभिनेता आसिफ बसरा पिछले 5 सालों से मैक्लोडगंज में एक किराए के मकान में रह रहे थे। उनके साथ उनकी एक UK की मित्र भी रह रही थी। गुरुवार दोपहर वह अपने पालतू कुत्ते को घुमाने निकले थे, इसके बाद उन्होंने घर आकर कुत्ते की ही रस्सी से फंदा लगा लिया। आसिफ 53 वर्ष के थे। अभिनेता के निधन से पूरी बॉलीवुड इंडस्ट्री और उनके फैन्स में शोक की लहर दौड़ गई है।  बात दें आसिफ 'Kai Po Che', 'Once Upon A Time In Mumbai', 'Parjaniya', 'Black Friday' जैसी फिल्मों में अहम भूमिका निभाई। इतना ही नहीं आसिफ हॉलीवुड की फ़िल्म 'Outsource' में भी नज़र आए। उन्हें हिमाचली फ़िल्म 'सांझ' में भी अपने किरदार के लिए जाना जाता है।

जम्मू-कश्मीर : नगरोटा में एनकाउंटर, जैश के 4 आतंकी ढेर

In Breaking
4-terrorist-killed-in-nagrota-jammu-and-srinagar-search-operation-underway

जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ सुरक्षाबलों का मोर्चा जारी है। नगरोटा में सुरक्षा बलों ने बान टोल प्लाजा के पास चेकिंग के दौरान 4 आतंकवादियों को ढेर किया है। जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों को खुफिया जानकारी मिली जिसके बाद नगरोटा में सुरक्षा कड़ी की गई और हर नाके पर आने जाने वाले वाहनों की जांच शुरू की गई। इसी कड़ी में सुरक्षा बलों द्वारा बान टोल प्लाजा पर भी नाकाबंदी की थी। वाहनों की चेकिंग के दौरान आतंकवादियों के एक समूह ने सुरक्षा बलों पर सुबह 5 बजे फायरिंग शुरू कर दी। फायरिंग के बाद आतंकी जंगल की तरफ भागने लगे, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। जानकारी के मुताबिक इस एनकाउंटर में 4 आतंकवादी मारे गए हैं। वहीँ इस एनकाउंटर के चलते जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर दिया गया है।  अधिकारीयों के मुताबिक ये आतंकी जैश-ए-मुहम्मदआतंकी संघठन से जुड़े हुए हैं। मारे गए आतंकियों में से 3 के शव बरामद कर लिए गए हैं जबकि एक की तलाश जारी है। वहीँ इस एनॉउंटर में पुलिस जवानो को मामूली चोटें आईं हैं। मन जा रहा है यह आतंकी के जरिये जम्मू-श्रीनगर हाईवे के रास्ते कश्मीर जाने की कोशिश कर रहे थे। इसी दौरान सुरक्षाबलों ने इन्हे घेर लिया और एनकाउंटर शुरू हो गया। इस घटना के चलते जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ लगे नगरोटा में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है, वाहनों की आवाजाही पर नजर रखी जा रही है। 

26/11 के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को अदालत ने दी 10 साल कैद की सजा

In National News
hafiz-saeed-

मुंबई के 26/11 हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद को पाकिस्तान की एंटी टेरर कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई है। कोर्ट ने टेरर फंडिंग के दो मामलों में यह सजा सुनाई है। सईद के साथ जफर इकबाल, याहया मुजाहिद और अब्दुल रहमान मक्की को भी साढ़े 10 साल की जेल की सजा सुनाई गई है। हाफिज सईद को जुलाई 2019 में गिरफ्तार किया गया था और उसके खिलाफ अब तक 4 मामलों में आरोप तय हुए हैं। कोर्ट ने सईद की संपत्ति ज़ब्त करने का निर्देश दिया है और 1.1 लाख का जुर्माना भी लगाया है। काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट में जमात-उद-दावा के खिलाफ केस दर्ज किए गए हैं जिनमें से 24 में फैसला आ चुका है जबकि बाकी अभी अदालत में लंबित है।

Obama Writes About Rahul Gandhi In His Memoir, Calls Him A Student Lacking Aptitude

In International News
Obama-Writes-About-Rahul-Gandhi-In-His-Memoir

Former US President Barack Obama's memoir 'A Promised Land', even before hitting the book stores, has made headlines in India. In his memoir, Obama has mentioned several political leaders from around the world. Interestingly, these names also include some senior Indian Congress leaders which have drawn the attention of the Indian media and audience.  In his book, Obama describes Rahul Gandhi as a student eager to impress the teacher but lacking aptitude and passion to master the subject. He says that "Rahul Gandhi has a nervous, unformed quality about him as if he were a student who'd done the coursework and was eager to impress the teacher but deep down lacked either the aptitude or the passion to master the subject." Rahul Gandhi's mother and current Congress President Sonia Gandhi also appear to find a mention in this book. Mentioning Sonia Gandhi's beauty Obama says 'We are told about the handsomeness of man life Charlie Crist and Rahm Emanuel, but not the beauty of woman, except for one or two instances, as in the case of Sonia Gandhi.' The Former Prime Minister of India Dr. Manmohan Singh doesn't lag behind and also acclaims a mention in Obama's book. Obama has compared Manmohan Singh with former US secretary of Defence Bob Gates, saying both coming across as 'having a kind of impassive integrity.' The former US President's book, 'A Promised Land' is the first of a two-part memoir. It is expected to hit the stands on November 17. Obama was the first African-American President of the United States. He had visited India twice as the U.S Prez in 2010 and 2015.

Sign up for the latest of First Verdict

Get the latest news, articles, exclusive insights and much more right in your inbox!